इतिहास के पन्नों में 08 जून: एयर इंडिया ने भरी थी पहली अंतरराष्ट्रीय उड़ान

इतिहास के पन्नों में 16 जून

क़ामयाबी का आसमानः .गुलामी की लंबी क़ैद के बाद आज़ाद मुल्क भारत भविष्य के सुनहरे ख़्वाब संजो रहा था। इन्हीं सपनों में शामिल था- भारत की अंतरराष्ट्रीय हवाई सेवा। भारतीय सिविल एविएशन के क्षेत्र में नित नयी सफलता अपने नाम करने वाली एयर इंडिया की पहली अंतरराष्ट्रीय उड़ान 08 जून 1948 को मुंबई और लंदन के बीच थी, जो काहिरा और जेनेवा होकर गंतव्य तक पहुंची।

Blog single photo

लंबी शुरुआती तैयारियों के बाद 08 जून की शाम मुंबई एयरपोर्ट से मालाबार प्रिंसेज नाम के 40 सीटर एल-749 कॉन्स्टलेशन ने कैप्टन के.आर.गुजदार की अगुवाई में 35 यात्रियों को लेकर उड़ान भरी। 08 जून से शुरू हुआ सफ़र 10 जून को लंदन पहुंचकर ख़त्म हुआ। यानी पांच हजार मील की यात्रा दो दिनों में पूरी हुई। मुसाफिरों में इंग्लैंड-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट मैच देखने के लिए जा रहे महाराजा दिलीप सिंह, गुलाम मोहम्मद भट्टी, आर.आर. नोबेल जैसे नामी-गिरामी और रसूखदार लोग शामिल थे।

इस सेवा के शुरू होने से पहले घरेलू उड़ानों का अनुभव रखने वाली एयर इंडिया ने काहिरा, जेनेवा और लंदन में अपना कार्यालय खोला। जिसमें लंदन एयरपोर्ट पर अपना कार्यालय खोलने के लिए एयर इंडिया को कड़ी मशक्क़त के बाद एक छोटी-सी जगह दी गयी। एयर इंडिया की पहली उड़ान का विज्ञापन 03 जून 1948 को एक अंग्रेजी अख़बार में प्रकाशित हुआ, जिसका संदेश था- ‘हमारे साथ हर मंगलवार काहिरा और जेनेवा होते हुए लंदन के लिए उड़ान भरिये, सिर्फ 1720 रुपये में।’
एयर इंडिया की स्थापना 1932 में जेआरडी टाटा ने टाटा एयरलाइंस के रूप में की थी। इसकी पहली उड़ान कराची से मुंबई के बीच थी। जेआरडी टाटा स्वयं उस सिंगल इंजन प्लेन में सवार थे। 29 जुलाई 1946 को एयर इंडिया के नाम से यह पब्लिक लिमिटेड कम्पनी बन गयी और देश की आज़ादी के बाद सरकार ने 1948 में इसकी 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली। जेआरडी टाटा 1977 तक इसके चेयरमैन रहे। आज भारत की सरकारी एयरलाइन कंपनी एयर इंडिया 94 घरेलू और अंतरराष्ट्रीय रूटों पर उड़ान भरती है।

अन्य अहम घटनाएंः

1658ः औरंगजेब ने आगरा के किले पर कब्जा कर शाहजहां को कैद कर लिया।

1936ः भारत की सरकारी रेडियो सेवा इंडियन ब्रॉडकास्टिंग सर्विस का नाम बदलकर ऑल इंडिया रेडियो कर दिया गया।

2004ः भारत सहित दुनिया के कई देशों में 122 वर्षों बाद शुक्र पारगमन का अद्भुत नजारा देखा गया।

2009ः मशहूर पटकथा लेखक, नाट्य निर्देशक, अभिनेता व कवि हबीब तनवीर का निधन।

Related posts